Atal Pension Yojna Kya Hai | APY ki Poori Jaankari

नमस्कार दोस्तों, आप सभी ने कई योजनाओ के बारे मे सुना होगा आज के इस लेख मे बुढ़ापे की सबसे बड़ी जरुरत पेंशन के बारे मे जानेंगे| वैसे तो हर बैंक की कुछ योजनाए है लेकिन आज हम भारत सरकार के द्वारा चल रहे सबसे लोकप्रिय Atal Pension Yojna के बारे मे जानेंगे| तो आइए जानते है की atal pension yojna kya hai ( अटल पेंशन योजना क्या है?) और ये बुढ़ापे की सबसे बड़ी जरुरत क्यू है ?

Atal Pension Yojna Kya Hai | APY ki Poori Jaankari Hindi Me
Atal Pension Yojna Kya Hai | APY ki Poori Jaankari Hindi Me

अटल पेंशन योजना क्या है ? 

अटल पेंशन योजना ( एपीवाई ) भारत के नागरिकों के लिए एक पेंशन योजना है , जो असंगठित क्षेत्र (जैसे : दैनिक मजदूर ,किसान ,दुकानदार इत्यादि ) के कामगारों पर केन्द्रित है | अटल पेंशन योजना (एपीवाई) के अंतर्गत अभिदाताओं के अंशदान के आधार पर 60 वर्ष की आयु पर 1000 रुपए , 2000 रुपए , 3000 रुपए , 4000 रुपए और 5000 रुपए प्रतिमाह की न्यूनतम गारंटीकृत पेंशन दी जाएगी ।

 पेंशन क्या है? मुझे इसकी आवश्यकता क्यों है?

atal pension yojna kya hai ( अटल पेंशन योजना क्या है?) इसे जानने से पहले आप पहले ये समझ ले कि पेंशन क्या है? इसकी जरूरत क्यों हमे क्यू है ? पेंशन लोगों को उस समय मासिक आय उपलब्ध कराती है जब वे कमाने की स्थिति ने नहीं होते । पेंशन की आवश्यकता इंसान को तब होती है जब उसके लिए अपनी आयु के साथ – साथ पैसा कमाना असंभव/पैसा कमाने की क्षमता का कम होने लगती है । संयुक्त परिवार  मे लोगो की संख्याओ में बढना, धन कमाने वाले  सदस्यों का पलायन करना ( छोड़कर चले जाना ) । जीवनस्तर का महंगा होना । दीर्घायु व्यक्तियों की संख्या में वृद्धि ।ये सभी कारण है जो पेंशन को और भी जरूरी बनाते है | सुनिश्चित मासिक आय बुढ़ापे में इज्जत की जिन्दगी सुनिश्चित करती है ।

(A.P.Y.) अटल पेंशन योजना का लाभ कौन कौन ले सकता है ?

भारत का कोई नागरिक एपीवाई योजना में शामिल हो सकता है ।

अटल पेंशन योजना का लाभ लेने के लिए कुछ जरूरी शर्ते :-

  • जो व्यक्ति अटल पेंशन योजना का लाभ लेना चाहता है उसकी आयु 18-40 वर्ष के बीच मे होनी चाहिए । उसका एक बचत बैंक खाता / डाक घर बचत बैंक खाता होना चाहिए ।
  • सम्भावित आवेदक को अटल पेंशन योजना (एपीवाई) खाते के संबंध में समय – समय मुख्य सूचनाए  प्राप्त करने के लिए पंजीकरण के दौरान अपना आधार और मोबाईल नम्बर बैंक/ डाकघर को देना होगा। हालांकि, नामांकन के लिए आधार अनिवार्य नहीं है।

(A.P.Y.)अटल पेंशन योजना में शामिल होने से आपको क्या लाभ मिलेगा?   

अटल पेंशन योजना के तहत न्यूनतम पेंशन के लाभ की भरोसे सरकार द्वारा इस अर्थ में दी जाएगी कि यदि अंशदान की अवधि के दौरान पेंशन अंशदान पर वास्तविक प्रतिफल न्यूनतम समेकित पेंशन के लिए भविष्यवाणी प्रतिफल से कम रहती है तो ऐसी कमी सरकार द्वारा वित्तपोषित की जाएगी।  दूसरी ओर, यदि पेंशन अंशदान पर मूल प्रतिफल अंशदान की अवधि के दौरान न्यूनतम समेकित पेंशन के लिए संभावित प्रतिफल से अधिक रहता है तो इस अधिक राशि को अभिदाता के खाते में जमा किया जाएगा, इसके परिणामस्वरूप अभिदाताओं को योजना का बढ़ा हुआ लाभ प्राप्त होगा।  सरकार प्रत्येक पात्र अभिदाता, जो 01 जून, 2015 से 31 मार्च, 2016 तक की अवधि के दौरान इस योजना में शामिल होते हैं और जो किसी अन्य सांविधिक सामाजिक सुरक्षा योजना के लाभार्थी नहीं हैं और शिशु दाला नहीं हैं, के लिए कुल अंशदान की 50  % या 1000 रुपए प्रतिवर्ष, जो भी कम हो, का सह – अंशदान करेगा।  सरकार का सह – अंशदान 5 वर्ष, अर्थात् वित्तीय वर्ष 2015-16 से 2019-20 तक के लिए दिया जाएगा।  इस समय राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली (एनपीएस) के तहत अभिडर अंशदान और ऐसे अंशदान पर निवेश प्रतिफल के संबंध में अधिकतम सीमा तक कर लाभ प्राप्त करने के पात्र हैं।  इसके अलावा, एनपीएस से बाहर निकलने पर वार्षिकी के खरीद मूल्य पर भी कर नहीं लगाया जाता है और अभिदाताओं की केवल पेंशन आय को सामान्य आय का हिस्सा माना जाता है और इस पर अभिदाता के लिए प्रयोज्य कर की समुचित सीमांत दर से कर जाता है।  ।  यह प्रस्ताव है कि एपीवाई के अभिदाताओं पर भी इसी प्रकार का कर लगाया जाए।  हालाँकि, इस समय एनपीएस के अंतर्गत उपलब्ध कर व्यवस्था को एपीवाई के अभिदाताओं के लिए लागू किया जाना है।

अटल पेंशन योजना की खाता खोलने की प्रक्रिया क्या है ?   

उस बैंक शाखा / डाक घर से संपर्क करें जहां आपका बचत बैंक खाता हो या यदि अभिदाता के पास बचत बैंक खाला न हो तो एक बचत बैंक खोले।  ली।  बैंक खाता संख्या / डाक घर बचत बैंक खाता संख्या उपलब्ध कराटे और बैंक कर्मचारी की सहायता से एपीवाई पंजीकरण फॉर्म भरें।  आधार / मोबाईल नम्बर उपलब्ध कराएँ।  यह अनिवार्य नहीं है, लेकिन अंतरदान के संबंध में सूचना की सुविधा के लिए इसे उपलब्ध कराया जाना चाहिए।  iii।  iv।  मासिक / तिमाही / मासिक अंशदान के अंतरण के लिए बचत बैंक खाते / डाक घर बचत बैंक खाते में अपेक्षित शेष राशि का होना सुनिश्चित करें। 

क्या योजना में शामिल होने के लिए आधार नम्बर अनिवार्य है? 

एपीवाई खाता खोलने के लिए आधार नम्बर उपलब्ध कराने अनिवार्य नहीं है।  हालांकि, अभिषेक की समुचित पहचान के लिए आधार नम्बर उपलब्ध कराने में विस्तार है।  

60 साल के बाद कितनी पेंशन मिलेगी?

भारत सरकार का सह – अंशदान जैसा अभिदाता, जो इस योजना में 01 जून, 2015 से 31 मार्च, 2016 तक की अवधि के दौरान शामिल होते हैं और जिन्हें किसी अन्य किसी सामाजिक सुरक्षा योजना के द्वारा कवर नहीं किया गया है और जो शिशु दाता नहीं है हैं, के लिए 5 वर्ष, अर्थात् वित्तीय वर्ष 2015-16 से 2019-20, तक उपलब्ध है। सेंट्रल रिकॉर्डकीपिंग एजेंसी से इसकी पुष्टि प्राप्त होने पर उस अभिदाता ने वर्ष के लिए सभी किस्तों का भुगतान कर दिया है, पेंशन निधि विनियामक और विकास प्राधिकरण (पीएफआरडीए) द्वारा पात्र स्थायी सेवानिवृत्ति खाता संख्या (पीआरएएन) में सरकार के सह – अंशदान वेतन है, सरकार का सह अंशदान वित्तीय वर्ष के अंत में कुल अंशदान का 50%, अधिकतम 1000 रुपए अभिदाता के बचत बैंक खाते / डाक घर बचत बैंक खाते में जमा किया जाएगा।

यह भी पढ़े:   PVC Aadhaar Card Kya Hai ? पीवीसी आधार कार्ड घर बैठे कैसे बनाएँ:

 

अटल पेंशन योजना में अंशदान का निवेश कैसे किया जाता है? 

एपीवाई के तहत अंशदान का निवेश केंद्र सरकाराराज्य सरका / एनपीएस लाइट / स्वावलंबन योजना / एपीवाई के लिए पीएफआरडीए द्वारा निर्धारित निवेश दिशानिर्देशों के अनुसार किया जाता है।  

खाते में अंशदान की विधि क्या है?  

अंशदान अभिदाता के बचत बैंक खाते / डाक घर बचत बैंक खाते से ऑटो डेबिट सुविधा के जरिए मासिक / तिमाही / ऋण अंतराल पर किया जा सकता है।] 

एपीवाई के तहत कौन सी पेंशन प्राप्त होगी?  

अभिदाताओं द्वारा दिए गए अंशदान के आधार पर उन्हें 60 वर्ष की आयु से 1000 रुपए, 2000 रुपए, 3000 रुपए, 4000 रुपए और 5000 रुपए प्रतिमाह की न्यूनतम निर्धारित पेंशन दी जाएगी। 

क्या मैं बचत बैंक खाता के बिना एपीवाई खाता खोल सकता हूं?  

एपीवाई में शामिल होने के लिए बचत बैंक खाता / डाक घर बचत बैंक खाता अनिवार्य है।  

कौन सरकारी सह अंशदान प्राप्त करने के पात्र नहीं हैं?

सांविधिक सामाजिक सुरक्षा योजनाओं के अंतर्गत कवर किए गए लाभार्थी एपीवाई के अंतर्गत सरकारी सहयोग – अंशदान प्राप्त करने के पात्र नहीं हैं।
उदाहरणार्थ
निम्नलिखित अधिनियमों के तहत सामाजिक सुरक्षा योजनाओं के सदस्य सरकारी सहयोग – अंशदान प्राप्त करने के पात्र नहीं होंगे: कर्मचारी भविष्य निधि और प्रधन उपबंध अधिनियम, 1952 में खान भविष्य निधि और प्रधानाचार्य उप अधिनियम, 1948 iii। असम टी प्लांटेशन भविष्य निधि और प्रायोगिक उपबंध, 1955 iv। Boic भविष्य निधि अधिनियम, 1966 V. जम्मू कश्मीर कर्मचारी भविष्य निधि और प्रख्यापित उप अधिनियम, 1961 vi .. कोई अन्य सांविधिक सामाजिक सुरक्षा योजना नहीं  

निष्कर्ष:

उम्मीद करता हूँ, की आपको मेरे द्वारा लिखी गई लेख आपको पसंद आई होगी और आपको atal pension yojna kya hai ( अटल पेंशन योजना क्या है?) इसके बारे मे पूरी जानकारी मिल गई होगी। अगर आपके मन अभी भी कोई सवाल या सुझाव देना चाहते है तो आप हमारे कान्टैक्ट ईमेल पर भेज सकते है। आपके सवाल के जवाब जल्द दे दी जाएगी  आपके सुझाव के लिए आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद ! इस पोस्ट को पूरा पढ़ने और अपना कीमती समय देने के लिए तहे दिल से आप सभी को शुक्रिया! इसी तरह के पोस्ट के लिए आप इस वेबसाईट को  suscribe कर सकते है।

2 thoughts on “Atal Pension Yojna Kya Hai | APY ki Poori Jaankari”

Leave a Comment

Share via
Copy link
Powered by Social Snap