प्रकाश किसे कहते है । प्रकाश के प्रकार । प्रकाश पुंज

प्रिय पाठक आज की इस लेख में आप सभी का स्वागत है।आज की इस लेख में आप जानेंगे कि प्रकाश किसे कहते है? आइये इसे अच्छे से समझते है।और जानते है कि प्रकाश क्या है और किसे कहते है?

प्रकाश किसे कहते है

प्रकाश किसे कहते है। प्रकाश क्या होता है : 

 वह विकिरण जो हमारी आंखों को संवेदित करता है। प्रकाश कहलाता है।  प्रकाश ऊर्जा का वह  प्रकार  है जो हमारी आंखों में संवेदना उत्पन्न करती है। उसे ही प्रकाश कहा जाता है इस परिभाषा को कुछ उदाहरण के माध्यम से समझते हैं।

आपने देखा होगा हमें अंधेरे कमरे में रखी वस्तुएं दिखाई नहीं देती है परंतु जैसे ही मोमबत्ती अथवा बिजली का बल्ब कमरे में जलाते हैं तो वस्तुएं दिखाई देने लगती हैं। ऐसा इसलिए होता है कि प्रकाश ऊर्जा का वह प्रकार है जिसकी सहायता से हम वस्तुओं को देख पाते हैं।

प्रकाश की सहायता से ही हम वस्तुओं को देखते हैं। जब अंधेरे में रखी वस्तु हमें नहीं दिखाई देती है परंतु जैसे ही प्रकाश जलाया जाता है, वह प्रकाश वस्तु पर आपतित होता है  और वस्तु से परावर्तित होकर हमारी आंखों पर पड़ता है। फिर उस वस्तु का प्रतिबिंब हमारे रेटिना पर बनता है जिसके कारण हमें वस्तुएं दिखाई देने लगती हैं। प्रकाश स्वयं नहीं दिखाई देता है लेकिन वस्तुओं को देखने में सहायता प्रदान करता है।

प्रकाश के गुण: 

  • प्रकाश विद्युत चुंबकीय विकिरणों के रूप में चलता है। या हम ये कह सकते है कि यह विद्युत चुंबकीय तरंगों के रूप में गति करता है। 
  • प्रकाश विद्युत चुंबकीय तरंगों के रूप में गति करता है।
  • निर्वात में प्रकाश की चाल 3 * 10 की घात 8 मीटर प्रति सेकंड होती है। 
  • प्रकाश के लिए माध्यम की आवश्यकता नहीं होती है। अर्थात प्रकाश के लिए किसी भी माध्यम की आवश्यकता नहीं होती। इसी वजह से प्रकाश निर्वात में भी गति करता है 
  •  प्रकाश सरल रेखा में गति करता है। 
  • जब प्रकाश एक पारदर्शी माध्यम से दूसरे पारदर्शी माध्यम में जाता है तो उसकी चाल बदल जाती है। जिस कारण से अपवर्तन की घटनाएं प्राप्त होती है, 
  • प्रकाश अपारदर्शी माध्यम से नहीं गुजरता है। चमकदार सतहों तथा चमकदार चीजो से  प्रकाश का परावर्तन होता है।

प्रकाश की किरण

वह मार्ग जिस पर प्रकाश किसी समांगी पारदर्शी माध्यम से गति करता है। उसे प्रकाश की किरण कहते हैं।  किसी समांग माध्यम में प्रकाश एक बिंदु से दूसरे बिंदु तक जिस ऋजुरेखीय मार्ग से होकर गुजरता है उसे प्रकाश किरण अथवा प्रकाश की किरण कहते हैं।

प्रकाश की पूंज किसे कहते है| Beam of light

एक ही दिशा में जाने वाले प्रकाश किरण के समूह को प्रकाश किरण पुंज कहा जाता है।

प्रकाश किरण पुंज के प्रकार 

प्रकाश किरण पुंज के प्रकार  को तीन भागों में बांटा गया है।

  1. अभिसारी
  2. अपसारी
  3. समांतर 

अभिसारी(Convergent beam of light : यदि प्रकाश की सभी किरणे एक ही बिंदु पर मिलती है। उसे ही अभिसारी प्रकाश किरण पुंज कहा जाता है 

किरणे

अपसारी: यदि प्रकाश की सभी किरणें किसी एक बिंदु से आती हुई प्रतीत हो रही हो तो उसे ही अपसारी प्रकाश किरण पुंज (divergent beam of light )जाता है। 

divergent beam of light

समांतर (parallel of light): यदि प्रकाश की सभी किरणें आपस में कभी ना मिलती हो और सदैव एक दूसरे से समांतर रहती हो तो उसे ही समांतर किरण पुंज कहा जाता है।

parallel of light)

इस लेख के बारे में

उम्मीद करता हूँ की आपको ये लेख पसंद आया होगा। इस लेख में आपने जाना की प्रकाश क्या होता है? आपने इसी के साथ जाना की प्रकाश के प्रकार और किरण के बारे में। अगर आपको ये जानकारी अच्छी लगी तो आप अपने दोस्तों के साथ इसे साझा कर सकते है। इस लेख को बहुत ही ध्यानपूर्वक और सरल भाषा मे लिखा गया है जिसे कोई भी समझ सके। अगर आप इस लेख मे कोई त्रुटि या लिखने मे कोई गलती हुई हो तो कृपया हमे बताए।

Leave a Comment